📲
भारतीय रियल एस्टेट उद्योग में एफडीआई

भारतीय रियल एस्टेट उद्योग में एफडीआई

भारतीय रियल एस्टेट उद्योग में एफडीआई
(Dreamstime)
एफडीआई शब्द का केवल उल्लेख घरेलू, छोटे और मध्यम उद्योग उद्यमियों और भारत में कर्मचारियों की संख्या में आतंक पैदा करता है। इन उद्यमियों को वैश्विक दिग्गजों से प्रतियोगिता का सामना करने के लिए विभिन्न कानूनों और विनियमों के तहत संरक्षण की तलाश है। भारत जैसे देश में जहां बेरोजगारी की दर अधिक है, स्थानीय प्रतिभाओं को भी विदेशों से अत्यधिक कुशल श्रमिकों से सुरक्षित रखने की जरूरत है। अब यह भारतीय रियल एस्टेट उद्योग में भी प्रवेश कर चुका है। अचल संपत्ति उद्योग में एफडीआई के इसके फायदे और नुकसान हैं। भारतीय रियल एस्टेट डेवलपर्स में शामिल होने वाली विदेशी कंपनियों की ताजा रिपोर्ट एक मशहूर दिल्ली स्थित बिल्डर, रहेजा के साथ एक संयुक्त उद्यम के माध्यम से है। रहेजा ने दुबई, अरबटेक कंस्ट्रक्शन के अग्रणी यूएई निर्माण कंपनी के साथ एक व्यवस्था को अंतिम रूप दिया है अरबटेक संयुक्त उद्यम में 63 प्रतिशत हिस्सेदारी रखेगा जबकि शेषजास शेष 37 प्रतिशत हिस्सेदारी रखेंगे। यह उद्यम एनसीआर में कुछ ऊंची इमारतों की योजना बना रहा है, जो 50 प्लस मंजिलों के साथ जीओआईएन री एंड नं। भारतीय रियल एस्टेट उद्योग में एफडीआई के कई फायदे हैं निर्माण के संबंध में डिजाइन, प्रौद्योगिकी और सामग्रियों के संदर्भ में सबसे प्रमुख एक, इंटर्न और परिचय नहीं; अंतर्राष्ट्रीय मानकों का परिचय। इससे भारत में निर्माण थोड़ा अधिक होगा। एफडीआई भी तुलनात्मक रूप से कम लागत पर फंड का बड़ा प्रवाह सुलभ होगा। यहां कार्य बल के लिए विदेशों में अनुभवी कर्मचारियों के साथ काम करने का शानदार अवसर होगा। इस प्रकार नई चीजें सीखना
Last Updated: Mon Apr 22 2019

समान आलेख

@@Tue Feb 15 2022 16:49:29