📲
होम लोन में ये लोग बन सकते हैं सह-आवेदक, लेकिन ध्यान में रखें ये बातें

होम लोन में ये लोग बन सकते हैं सह-आवेदक, लेकिन ध्यान में रखें ये बातें

होम लोन में ये लोग बन सकते हैं सह-आवेदक, लेकिन ध्यान में रखें ये बातें
 (Dreamstime)
अगर आप होम लोन में सह-आवेदक बनने की सोच रहे हैं तो फिर से विचार कर लें, क्योंकि यह बेहद जिम्मेदारी का काम है। जब आप बतौर सह-आवेदक होम लोन अग्रीमेंट पर दस्तखत करते हैं तो यह वित्तीय प्रतिबद्धता की ओर गंभीर कदम होता है। अगर कुछ गलत होता है या मुख्य होम लोन आवेदक भुगतान नहीं कर पाता तो इसे चुकाना आपकी कानूनी जिम्मेदारी बन जाती है। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि भावनाओं को तर्क के बीच न आने दें। होम लोन अग्रीमेंट पर बतौर सह-आवेदक तभी साइन करें, जब आप वित्तीय तौर पर इतनी बड़ी जिम्मेदारी को उठाने के लायक हों। 
 
मकानआईक्यू आपको बताने जा रहा है कि सह-आवेदक कौन हो सकता है और बनने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

कौन होता है सह-आवेदक:

वह शख्स जो मुख्य आवेदक के साथ होम लोन के लिए अप्लाई करता है। सह-आवेदक दो तरह के होते हैं, जिसकी आय होम लोन योग्यता की गणना करते वक्त शामिल की जाती है और दूसरा वो जिसकी आय शामिल नहीं होती। संपत्ति के सभी सह-मालिकों को अनिवार्य रूप से सह-आवेदकों के रूप में शामिल होना चाहिए। लेकिन सभी सह-आवेदक सह-मालिक भी हों, यह जरूरी नहीं। अगर आप एक पार्टनरशिप फर्म में भागीदार हैं तो कंपनी में आपके हिस्से के आधार पर आपकी आय को अन्य भागीदारों की सहमति के बिना होम लोन के लिए विचारनीय माना जाएगा। 
 
अगर आप किसी कंपनी के डायरेक्टर हैं, तो कंपनी के 3/4 से ज्यादा शेयरों के साथ सभी डायरेक्टरों के लिए होम लोन की योग्यता और रीपेमेंट का मूल्यांकन किया जाना चाहिए। (यह हिस्सा हर बैंक के हिसाब से अलग हो सकता है), चाहे सह-आवेदक संपत्ति में सह-मालिक हैं या नहीं। गैर-निवासी भारतीयों (एनआरआई) को दिए जाने वाले होम लोन के मामले में भी सह-आवेदकों को दरकिनार नहीं किया जा सकता। अगर होम लोन योग्यता में दोनों आवेदकों (मुख्य और सह-आवेदक) की आय शामिल है तो होम लोन योग्यता की गणना करते वक्त दोनों आवेदकों के दायित्वों को भी बाहर रखा जाएगा। 
 
होम लोन अप्लाई करते वक्त पति/पत्नी, माता-पिता या बच्चों की आय को समायोजित किया जा सकता है। अगर भाई और बहनें संपत्ति में सह-मालिक हैं तो उनकी भी आय संयोजित की जा सकती है। लेकिन अगर वह सह-मालिक नहीं हैं तो कई कर्जदाता होम लोन योग्यता की गणना करते वक्त आय को समायोजित करने की इजाजत नहीं देते। 
 
आइए आपको बताते हैं कि होम लोन अप्लाई करते वक्त कौन-कौन सह-आवेदक हो सकते हैं।
 
पति/पत्नी: अगर पति-पत्नी संपत्ति में सह-मालिक नहीं हैं, तब भी वे सह-आवेदक हो सकते हैं। होम लोन की अवधि आयु में बड़े पार्टनर की रिटायरमेंट की उम्र पर निर्भर करती है। होम लोन योग्यता तय करने के लिए दोनों/ या किसी एक की आय पर विचार किया जाएगा। आवेदक जिस होम लोन राशि के योग्य होते हैं उसे बढ़ाने के लिए वे अधिकतर पति या पत्नी की आय को शामिल करते हैं। 
 
भाई-बहन (2 भाई/दो बहन) : अगर एक ही प्रॉपर्टी में रहते हैं तो दो भाई भी होम लोन में सह-आवेदक बन सकते हैं। जिस प्रॉपर्टी के लिए वे होम लोन ले रहे हैं, उसके वे सह-मालिक होने चाहिए। हालांकि भाई और बहन या दो बहनें भी होम लोन में सह-आवेदक नहीं हो सकते। 
 
बेटा और बाप: अगर बाप और बेटा संपत्ति के संयुक्त मालिक हैं तो वे सह-आवेदक हो सकते हैं। अगर पिता की आय को होम लोन की योग्यता के लिए माना गया है तो उनकी उम्र के मुताबिक ही होम लोन की अवधि को आंका जाएगा। हालांकि अगर पिता के एक से ज्यादा बेटे हैं तो माना जाता है कि कानूनी कारणों से संपत्ति बेटों की ही है।
 
बेटी और पिता: एक कुंवारी बेटी अपने पिता के साथ होम लोन के लिए अप्लाई कर सकती है। लेकिन प्रॉपर्टी पूरी तरह से उसके नाम पर होनी चाहिए, ताकि बाद में सरनेम बदलने के कारण होने वाली मुश्किलों से बचा जा सके। 
 
बेटा और मां: अगर पिता जीवित नहीं हैं तो मां और बेटा सह-आवेदक हो सकते हैं। मां और बेटा उस वक्त भी सह-आवेदक हो सकते हैं, अगर मां नौकरी करती है और संपत्ति की संयुक्त मालिक भी, चाहे पिता जिंदा हो या रिटायर हो चुका हो। यह लंबी होम लोन अवधि के लिए किया जाता है। (अगर मां-पिता से उम्र में छोटी है और पिता की तुलना में बाद में रिटायर होगी)। 
 
दोस्त और रिश्तेदार: बैंक और वित्तीय संस्थान दोस्त और रिश्तेदारों (जो ब्लड रिलेशन में नहीं हैं) को सह-आवेदक बनने की इजाजत नहीं देते। 
 
बतौर सह-आवेदक अप्लाई करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान: 
 
-यह मालूम होना चाहिए कि आपको सह-आवेदक क्यों बनना है। क्या इसलिए कि आप संपत्ति में सह-मालिक हैं या उस संपत्ति की लोन राशि को बढ़ाने के लिए, जिसमें आप सह-मालिक नहीं है।
 
-जब आप होम लोन अग्रीमेंट को बतौर सह-आवेदक साइन करते हैं तो जान लें कि आप लोन के मुख्य उधारकर्ता की जिम्मेदारी ले रहे हैं।
 
-अगर कुछ भी गलत होता है या मुख्य लोन आवेदक भुगतान नहीं कर पाता तो आप भी उसके बराबर ही जिम्मेदार होंगे।
 
-अगर मुख्य होम लोन आवेदक कुछ गलत करता है या मासिक किस्तों का भुगतान नहीं करता तो आपका भी क्रेडिट स्कोर प्रभावित होगा। 
 
-होम लोन अग्रीमेंट में जो सह-आवेदक के लिए नियम व शर्तें हैं उन्हें ध्यान से पढ़ें। अगर कुछ समझ नहीं आ रहा तो सवाल जरूर करें।  
 
-अगर आप इस बात को लेकर श्योर नहीं हैं कि आपको लोन का हिस्सा बनना चाहिए या नहीं तो लोन अग्रीमेंट साइन न करें, खासकर जब आप संपत्ति के सह-मालिक न हों।   
Last Updated: Sat Nov 16 2019

समान आलेख

@@Fri Nov 01 2019 11:36:03