📲
इन 6 स्मार्ट तरीकों से मैनेज करें अपना होम लोन, होगी काफी बचत

इन 6 स्मार्ट तरीकों से मैनेज करें अपना होम लोन, होगी काफी बचत

इन 6 स्मार्ट तरीकों से मैनेज करें अपना होम लोन, होगी काफी बचत
(Dreamstime)
अगर आप होम लोन लेने जा रहे हैं तो शायद यह आपकी सबसे बड़ी वित्तीय प्रतिबद्धता होगी। होम लोन के जरिए आप अपने सपनों का घर हासिल कर सकते हैं, वह भी अपनी सेविंग्स को बचाते हुए। लेकिन जब बात होम लोन की ईएमआई चुकाने की आती है तो हमेशा अप्रत्याशित मुश्किलें का सामना करना आसान नहीं होता। मकानआईक्यू आपको रीपेमेंट प्रोसेस के कुछ अहम टिप्स बताने जा रहा है।
 
चुका सकें तो ज्यादा ईएमआई का भुगतान करें: अगर आप लोन अवधि खत्म होने से पहले ही अपना होम लोन चुकाना चाहते हैं तो यह सर्वश्रेष्ठ तरीका है। थोड़ी ज्यादा ईएमआई (2000 से 5000 रुपये, जो आपकी लोन अवधि पर निर्भर करती है) चुकाकर आप अपनी लोन अवधि के कई महीने या वर्ष बचा सकते हैं। ईएमआई राशि को बढ़ाने के लिेए होम लोन खरीददार को सावधानीपूर्वक अपना पैसा निवेश करना चाहिए, ताकि उसके फंड्स में इजाफा और इक्विटी में सुधार हो। 
 
अपना फंड मैनेज करें: लोन और इन्वेस्टमेंट से निपटते वक्त मकसद कैश फ्लो को बढ़ाना होता है। अपने इन्वेस्टमेंट में मासिक पेमेंट्स (कैश का आउटफ्लो) की मासिक रिटर्न्स (इनफ्लो अॉफ कैश) से तुलना करें। उदाहरण के तौर पर अगर आपको लगता है कि कुछ इन्वेस्टमेंट्स बेहतर रिटर्न्स नहीं दे रहे हैं या वे समय के साथ बर्बाद हो गए हैं तो अच्छा होगा कि उन्हें बंद कर दें और अपने होम लोन के ईएमआई फंड में पैसा डालें। उन विकल्पों में निवेश कर पैसा बचाएं, जो 12-15 प्रतिशत रिटर्न्स दे सकते हैं। यह आपको 10.5-11.5 प्रतिशत अधिक इनकम देगा जो आप अपने लोन के ब्याज के तौर पर चुकाएंगे। अपने होम लोन का पुनर्भुगतान करने के लिए भी आप इस पैसे का इस्तेमाल कर सकते हैं।
 
आंशिक प्री-पेमेंट की कोशिश करें: होम लोन राशि का पुनर्भुगतान करने में आप जितनी देरी करेंगे, लोन का ब्याज उतना ज्यादा लगेगा। आंशिक प्री-पेमेंट आपकी होम लोन अवधि और लोन दायित्व को कम करने का तेज तरीका है। आंशिक प्री-पेमेंट के काफी फायदे हैं। बैंक इस सुविधा पर कोई फीस चार्ज नहीं करता और प्री-पेमेंट अमाउंट 10 हजार रुपये तक भी हो सकता है। एक अच्छा खासा बोनस, स्टॉक या शेयर से मिला पैसा, प्रॉपर्टी बेचकर मिली रकम, कोई टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट या मैच्योर होने वाला फिक्स डिपॉजिट, पैरंट्स व परिवार से मिला कोई गिफ्ट, किराये की आमदनी और कई एेसी वन टाइम इनकम हैं, जिनका इस्तेमाल प्री-पेमेंट के लिए किया जाता है। 
 
एेसे बैंक में जाएं, जहां ब्याज दर कम हो: तरह-तरह के इंट्रस्ट रेट रीसेट पीरियड के कारण कर्जदाता ब्याज दर को समय-समय पर कम करते रहते हैं। आप अपने होम लोन ब्याज दर पर सेविंग करने के लिए एेसे बैंक में जा सकते हैं, जिसकी ब्याज द कम हो। यह बैंक की बैलेंस ट्रांसफर स्कीम्स के जरिए हासिल किया जा सकता है। बैलेंस ट्रांसफर के तहत होम लोन का बकाया प्रिंसिपल अमाउंट कम ब्याज दर के लिए एक से दूसरे बैंक में ट्रांसफर किया जाता है। लेकिन ध्यान रहे कि जल्दी-जल्दी या मामूली ब्याज दर के लिए स्विच न करें। क्योंकि जब भी आप एक से दूसरे बैंक का रुख करेंगे तो आपको फिर से ऋण मूल्यांकन, हामीदारी प्रक्रियाएं, तकनीकी और कानूनी कागजी कार्रवाई से गुजरना पड़ेगा। इस सुविधा के लिए कर्जदाता आमतौर पर आउटस्टैंडिंग लोन का एक प्रतिशत शुल्क वसूलता है। लोन मार्केट पर पैनी नजर बनाए रखें क्योंकि लोन अप्रूवर या बैंक त्योहारी मौसम के वक्त ही लुभावनी स्कीम लेकर आते हैं।
 
   
Mortgage कैलकुलेटर का इस्तेमाल करें: Mortgage कैलकुलेटर के जरिए आप यह मालूम कर सकते हैं कि कितना होम लोन बाकी रहता है। ये सरल और सुविधाजनक टूल्स हैं और इन्हें अॉपरेट करना भी आसान है। आपको मासिक गिरवी भुगतान, कैश डाउन पेमेंट्स और विभिन्न होम लोन के तहत ब्याज दर की जानकारी मिल जाएगी। यह कैलकुलेटर्स आपको बताएगा कि कौन सी होम लोन स्कीम/प्रॉडक्ट आपके लिए सर्वश्रेष्ठ है, जिसे आप वित्तीय तौर पर संभाल सकते हैं। यह आपको उस राशि का अनुमान लगाने में भी मदद करता है जो आप खर्चों के लिए बचाते हैं। साथ ही मासिक लोन भुगतान के अलावा अन्य निवेश जैसे दैनिक खर्च के बारे में भी बताता है। 
 
अपनी मासिक पेमेंट में देरी या चूक न करें: मासिक किस्त का भुगतान नहीं करने से न सिर्फ आपके फिक्स बजट से सरप्लस कैश निकलेगा, बल्कि आपके क्रेडिट स्कोर को भी प्रभावित करेगा। ध्यान रहे कि आपके लोन पर कभी स्पेशल मेंशंड अकाउंट (एसएमए) का ठप्पा न लगे। बैंक अकाउंट को उस वक्त एसएमए ठहरा देते हैं, जब लायबिलिटी/पेमेंट भुगतान की तारीख के 30-90 दिनों तक बकाया रहता है। इसके अलावा तब तक दूसरा लोन न लें, जब तक पहले वाले का भुगतान न हो जाए। 
 

जरूर पढ़े: वक्त से पहले चुका रहे हैं होम लोन तो इन 7 बातों का रखें ध्यान
Last Updated: Fri Apr 20 2018

समान आलेख

@@Fri Nov 01 2019 11:36:03