📲
हैदराबाद शहर का नक्शा बदल देगा अमीरपेट-हाईटेक सिटी मेट्रो रूट

हैदराबाद शहर का नक्शा बदल देगा अमीरपेट-हाईटेक सिटी मेट्रो रूट

हैदराबाद शहर का नक्शा बदल देगा अमीरपेट-हाईटेक सिटी मेट्रो रूट
मेट्रो ने हैदराबाद शहर का चेहरा ही बदलकर रख दिया है. हैदराबाद भारत के उन शहरों में से एक है, जो बड़े इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड मैन्युफैक्चरिंग मार्केट के तौर पर उभरे हैं. जहां तक शहर में कनेक्टिविटी की बात है तो मेट्रो नेटवर्क ने यहां के रियल एस्टेट मार्केट पर भी खासा प्रभाव डाला है. हैदराबाद को दुनिया के सबसे शानदार प्रॉपर्टी मार्केट में गिना जाता है. 
 
20 मार्च को हैदराबाद मेट्रो का फेज 3 चालू कर दिया गया, जिससे शहर के दो अहम इलाके- अमीरपेट और हाईटेक सिटी आपस में जुड़ गए. ब्लू लाइन पर स्थित 10 किलोमीटर लंबी जिस लाइन को आंध्र प्रदेश के गवर्नर और तेलंगाना के ईएसएल नरसिम्हन ने हरी झंडी दिखाई उस पर 9 स्टेशन हैं- अमीरपेट, मधुरानगर, यूसुफगुडा, जुबली हिल्स रोड नंबर 5, जुबली हिल्स चेकपोस्ट, पेड्डाम्मा टेंपल, माधापुर, दुर्गम चेरुवू, हाईटेक सिटी. 56 किलोमीटर लंबा हैदराबाद मेट्रो रेल नेटवर्क दिल्ली के बाद भारत का दूसरा सबसे लंबा मेट्रो नेटवर्क बन गया है. आइए आपको बताते हैं हैदराबाद मेट्रो की खास बातें:
 
जो प्रोजेक्ट बनाया जा रहा है, उसकी लागत 18,800 करोड़ रुपये है. इसमें तीन कॉरिडोर हैं, जो 72 किलोमीटर में फैले हुए हैं. 
 
कॉरिडोर-1 (रेड लाइऩ): हैदराबाद मेट्रो की रेड लाइन 29.2 किलोमीटर लंबा कॉरिडोर है, जो मियांपुर और एलबी नगर के बीच फैला हुआ है. इसमें 27 स्टेशन हैं, जिसमें मियांपुर, कुकटपल्ली, इर्रागड्डा, अमीरपेट, पुंजागुट्टा और अन्य शामिल हैं. यह रूट नवंबर 2017 को आंशिक रूप से खोल दिया गया था और दूसरा रूट सितंबर 2018 को पब्लिक के लिेए खोल दिया गया. दिल्ली मेट्रो के बाद अब यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा मेट्रो नेटवर्क है. अमीरपेट स्टेशन और एमजी बस स्टेशन इंटरचेंज पॉइंट्स हैं, जहां से यात्री ब्लू लाइन और ग्रीन लाइन मेट्रो के लिए चेंज कर सकते हैं.
 
कॉरिडोर-2 (ब्लू लाइन): नागोल और रायदुर्ग के बीच हैदराबाद मेट्रो की ब्लू लाइन चलती है. 27 किलोमीटर लंबे टू फेज कॉरिडोर में 23 स्टेशन हैं. इस रूट पर नागोल, उप्पल, सर्वे ऑफ इंडिया, एनजीआरआईई, हबसीगु़डा, तरनाका, मेट्टूगुडा, सिकंदराबाद, परेड ग्राउंड्स, पैराडाइज, रसूल पुरा, प्रकाश नगर, बेगमपेट, अमीरपेट, मधुरा नगर, युसूफ गुडा, रोड नंबर 5 जुबली हिल्स, जुबली हिल्स चेक पोस्ट, पेडम्मा टेंपल, मधापुर, दुर्गम चेरुवू, हाईटेक सिटी एंड शिल्पारामम हैं. परेड ग्राउंड्स और अमीरपेट स्टेशन पर इंटरचेंज की सुविधा मिलेगी, जिससे यात्री रेड और ग्रीन लाइन पर जा सकते हैं.
 
कॉरिडोर-3 (ग्रीन लाइन): यह 15 किलोमीटर लंबी लाइन है, जो जेबीएस और फलुकनुमा के बीच चलेगी. इस लाइन पर 14 स्टेशन हैं. इसमें जेबीएस, परेड ग्राउंड्स, सिकंदराबाद, गांधी हॉस्पिटल, मुर्शिदाबाद, आरटीसी क्रॉस रोड्स, चिक्काडपल्ली, नारायणगुडा, सुल्तान बाजार, एमजी बस स्टेशन, सालरजंग म्यूजियम, चारमिनार, शालीबांदा, शमशेर गंज, जंगामेट्टा और फलकनुमा स्टेशन शामिल हैं. यह रूट 2019 के आखिर तक शुरू हो जाएगा. इसकी योजना दो फेज में बनाई गई है. 9.66 किलोमीटर लंबा रूट जेबीएस से एमजीबीएस के बीच है और 5.36 किलोमीटर लंबा रूट एमजीबीएस से फलकनुमा के बीच निर्माणाधीन चरण में है. इस रूट पर परेड ग्राउंड और एमजी बस स्टेशन इंटरचेंज पॉइंट्स हैं. 
 
हैदराबाद मेट्रो से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य: 
 
यूनिक स्टेशन: हैदराबाद के मेट्रो स्टेशन अपने डिजाइन में वहां की संस्कृति को दर्शाएंगे. ये सभी स्टेशन एनर्जी एफिशियंट फीचर्स, साइन बोर्ड, स्काई वॉक, पार्किंग एरिया, विकलांगों के लिए सुविधा से लैस हैं. इन स्टेशनों पर ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीन लगी हैं.
 
इंटर-मॉडल कनेक्टिविटी: यह प्रोजेक्ट इस तरह बनाया गया है, जो यातायात के अन्य साधनों को भी जोड़ता है. इसमें मौजूद रेल टर्मिनल, एमएमटीएस और बस स्टेशन भी शामिल हैं. इससे यात्रियों को हर साधन से कनेक्टविटी मिल जाएगी. 
 
किराया: 2 किलोमीटर तक की यात्रा के लिए बेस फेयर 10 रुपये रखा गया है, जबकि अधिकतम किराया 60 रुपये है.  

 

Last Updated: Mon Jan 13 2020

समान आलेख

@@Fri Nov 01 2019 11:36:03