📲
क्या है तेलंगाना सरकार की 2बीएचके स्कीम, जो गरीबों के घर का सपना करेगी साकार

क्या है तेलंगाना सरकार की 2बीएचके स्कीम, जो गरीबों के घर का सपना करेगी साकार

क्या है तेलंगाना सरकार की 2बीएचके स्कीम, जो गरीबों के घर का सपना करेगी साकार
Telangana 2BHK Scheme
साल 2022 तक हाउसिंग ऑफ ऑल के मिशन को पूरा करने में राज्य सरकारें जुट गई हैं. तेलंगाना सरकार इसका बेहतरीन उदाहरण है. 2बीएचके हाउसिंग स्कीम के नाम से मशहूर के चंद्रशेखर राव की अगुआई वाली सरकार 560 स्क्वेयर फुट में बने 2.60 लाख दो बेडरूम वाले घर ऐसे लोगों को दे रही है, जो मकान नहीं बना सकते. 
 
कौन अप्लाई कर सकता है? जिला प्रशासन ने हाउसिंग स्कीम के लिए 28 झुग्गी-झोंपड़ियों की पहचान की है. हालांकि अब तक निर्माण के लिए तीन ही झुग्गियों को खाली कराया गया है. बाकी लोगों को इस बात से विस्थापन का डर है कि उन्हें पक्का घर नहीं मिलेगा. 
 
यूनिट की दर: 
 
 
 

Sl.No.

एरिया

इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ यूनिट की लागत

बिना इन्फ्रास्ट्रक्चर के यूनिट की लागत

House

Infra

Total

1

ग्रामीण

Rs 5.04 lakh

Rs 1.25 lakh

Rs 6.29 lakh

Rs 5.04 lakh

2

शहरी

Rs 5.3 lakh

Rs 75k

Rs 6.05 lakh

Rs 5.3 lakh

3

जीएचएमसी G+3

Rs 7 lakh

Rs 75k

Rs 7.75 lakh

Rs 7 lakh

जीएचएमसी C+S+9

Rs 7.9 lakh

Rs 75k

Rs 8.65 lakh

Rs 7.9 lakh

 
घर मिलने की योग्यता क्या है?
*लाभार्थी का परिवार गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) होना चाहिए. उनके पास नंबर वाला वैध राशन कार्ड होना चाहिए.
*घर गृहणी के नाम पर आवंटित किया जाएगा.
*घर उन लोगों को दिया जाएगा, जिनके पास मकान नहीं हैं और जो फिलहाल झोंपड़ी, कच्चे मकान या किराये के मकान में रह रहे हैं.
*अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) के आधार पर घरों के लिए प्रावधान का पालन हर निर्वाचन क्षेत्र में लाभार्थियों के चयन में किया जाएगा.
 
क्या होंगे फायदे: दो बेडरूम, हॉल और किचन के अलावा घर में दो टॉयलेट, दो स्टोर और किचन प्लेटफॉर्म भी किया जाएगा. टॉयलेट घर के अंदर या बाहर भी हो सकता है क्योंकि 560 स्क्वेयर फुट वाले घर में सीढ़ियां और कॉमन एरिया भी होगा. इन्फ्रास्ट्रक्चर की बात करें तो हर कॉलोनी में पानी, बिजली, सड़कें, ड्रेनेज व सीवेज सिस्टम होंगे. 
 
कौन बनाएगा इमारतें?
कोई लाइसेंस प्राप्त डिवेलपर, जिसके नाम पिछले एक दशक में प्रोजेक्ट बनाने का श्रेय हो और उसकी एलिजिबिलिटी किसी चार्टड अकाउंटेंट द्वारा मंजूर की गई हो. वह कोई ठेकेदार भी हो सकता है. इसके अलावा कोई डिवेलपर, जिसका टर्नओवर चार्टड अकाउंटेंट द्वारा सर्टिफाइड हो, वह भी इसके योग्य है. यह माना जा रहा है कि सरकार एरिया में निर्माण कार्यों में तेजी लाने के कारण नियमों को आसान कर रही है. इसे सुविधाजनक बनाने के लिए, बयाना जमा राशि या ईएमडी को पहले के तीन प्रतिशत से घटाकर एक प्रतिशत तक लाया गया है. छोटे डिवेलपर्स को फायदा पहुंचाने के लिए अन्य कदम भी उठाए गए हैं.
 
जिलाधिकारी टॉयलेट बनाने के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना या स्वस्छ भारत मिशन (NREGA) से फंड लेंगे. 
 
किसका कितना हिस्सा: ज्यादातर घर महबूबनगर, करीमनगर, वारंगल, नलगोंडा, आदिलाबाद, खम्मम, मेडाक और निजामाबाद हैं. यहां 14000 घर बनाए जाएंगे. वहीं रंगा रेड्डी जिले में 6000 घरों का निर्माण होगा. कॉन्ट्रैक्टरों को प्रोत्साहन देने के लिए राज्य सरकार योजना को सेंट्रल हाउसिंग स्कीम और सब्सिडाइज्ड सीमेंट से इंटरलिंक कर उन्हें मुफ्त रेत मुहैया कराएगी. कुल 95000 घरों की मंजूरी दी जा चुकी है. इसमें ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन का इलाका शामिल नहीं है. 
 
रोडब्लॉक्स: गरीबों को मुफ्त घर देने के लिए इस प्रमुख कार्यक्रम ने एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य को पूरा किया. तय हुआ था कि हर विधानसभा क्षेत्र में 1400 यूनिट्स का काम चलेगा, जिसमें जीएचएमसी का इलाका शामिल नहीं होगा. इसके अलावा 1 लाख यूनिट्स जीएचएमसी एरिया में बनाई जाएंगी. लेकिन दुर्भाग्यवश 25 प्रतिशत लक्ष्य भी हासिल नहीं हो पाया है. 
 
कॉन्ट्रैक्टर्स का कहना है कि ग्रेटर हैदराबाद में 1250 रुपये स्क्वेयर फुट की निर्माण लागत और ग्रामीण इलाकों में 950 रुपये प्रति स्क्वेयर फुट की दर अव्यवहारिक है. इसके अलावा झुग्गियों को खाली कराना भी बड़ी समस्या है. हाल ही में राज्य सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर इस स्कीम के तहत बनाए जा रहे घरों में प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना-सौभाग्य के जरिए कनेक्शन देने की मांग की थी. इससे इन लोगों को अच्छी बिजली कम दामों में मिलेगी. 
 
कैसे करें अप्लाई: अगर आप अपनी मेड की मदद करना चाहते हैं या किसी ऐसे शख्स को जानते हैं जो तेलंगाना सरकार की हाउसिंग स्कीम का लाभ लेने के योग्य हो तो उसे 2बीएचके हाउस एप्लिकेशन स्कीम का फॉर्म भरने में मदद करें. इस फॉर्म को ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेसन या ग्राम सभा में जमा कराना होगा, जहां कोई अफसर आपसे यह फॉर्म लेगा. इस पर पासपोर्ट साइज फोटो चिपकाएं और फूड सिक्योरिटी नंबर डालें. सब्मिट होने के बाद तहसीलदार आवेदनों को राज्य सरकार को आगे की प्रक्रिया के लिए भेज देगा. 
 
जिले के नोडल अफसरों के जरूरी नंबर:
 
कमांक   जिला    अफसर   पद   नंबर  
1   जोगुलम्बा गडवाल निरंजन   जॉइंट कलेक्टर 9100901601  
2   महबूबनगर एमवी रमन्ना राव ओएसडी 2बीएचके 7799721175  
3   नगरकुरनूल श्रीरामुलु   स्पे.डिप्टी कलेक्टर 9581816969  
4   वानापार्थी   शिवकुमार   ईई पीआर 9440437985  
5   मेडक   एम. हानूक डीपीओ मेडक 9100930081  
6   सांगारेड्डी   वी. वेंकटेशवरुलु डीपीओ सांगारेड्डी 8008901150  
7   सिद्धिपेट   वेणुमाधव रेड्डी जिला ऑडिट कलेक्टर 9989160930  
8   कामारेड्डी   श्रीनिवास रेड्डी डीसीओ कामारेड्डी 9100115755  
9   निजामाबाद के सिंहचलम डीसीओ निजामाबाद 9100115747  
10   आदिलाबाद सी बास्वेस्वर पीडी हाउसिंग 7702822428  
11   कुमारमभीम एम वेंकट राव ईई पीआर 9440019165  
    आसिफाबाद            
12   मनचेरियल बी संजीव रेड्डी डीसीओ मनचेरियल 9100115645  
13   निर्मल   एस सूर्यचंद्र राव डीसीओ निर्मल 9100754145  
14   जगतियल   बी राजेशम जॉइंट कलेक्टर 7995084602  
15   करीमनगर बी.बीक्षा   डीआरओ करीमनगर 9849904353  
16   पेड्डापल्ली के. वेंकटेश्वरराव ईई पीआर डिपो 9121135640  
17   राजन्ना सिरकिल्ला एन खीमया नायक डीआरओ राजन्ना 7032675222  
18   जयशंकर भूपलपल्ली के स्वर्णलता जॉइंट कलेक्टर 995088367  
19   जनगांव   दामोदर राव ईई हाउसिंग 7799723056  
20   वारंगल (अर्बन) आर शंकरिया ईई हाउसिंग 7093872525  
21    भद्राद्री कोठागुडम एस किरण कुमार डीआरओ   7995571866  
22   खम्मम   वी मदन गोपाल डीआरओ (एफएसी) 9849906076  
23   नालगोंडा   एसपी राजकुमार पीडी हाउसिंग 7799721168  
24   सूर्यापेट   पी. चंदरिया डीआरओ   9493741234  
25   यदाद्री-भोनगिरी ए. वेंकट रेड्डी डीआरओ   8331997003  
26   विकाराबाद मनोहर राव ईई पीआर  984854245  
27   रंगा रेड्डी   पी. बलराम पीडी हाउसिंग 7799721159  
28   मेडचल-मलकजगिरी चंद्रा सिंह   ईई   9440818104  
29   जीएचएमसी सुजत डी       97013627

 

Last Updated: Tue Nov 19 2019

समान आलेख

@@Fri Nov 01 2019 11:36:03